कश्यप मेमोरियल आई होस्पिटल, झारखण्ड नेत्र सोसाइटी एवं स्वास्थ्य विभाग झारखण्ड सरकार के संयुक्त तत्वधान में सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन अभियान

वीमेन डॉक्टर्स विंग आई.एम.ए. झारखण्ड की पहल

हजारीबाग सदर अस्पताल राज्य का 11वाँ सदर अस्पताल बना जहाँ सर्वाइकल प्री-कैंसर के पहचान एवं इलाज की मशीने लगीं

माननीय विधायक मनीष जायसवाल की वितीय सहायता से हजारीबाग की महिलाओं के इलाज के लिए सदर अस्पताल में लगी मशीन

01 अगस्त 2019, हजारीबाग:- वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. झारखण्ड, झारखण्ड नेत्र सोसाइटी, कश्यप मेमोरियल आई होस्पिटल एवं स्वास्थ्य विभाग झारखण्ड सरकार के संयुक्त तत्वधान में  दो तरह के विशेष स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन सदर अस्पताल, हजारीबाग में किया गया। पहला सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन अभियान दूसरा डायबिटिक रेटिनोपैथी रिसर्च के लिए ज्योत से ज्योत जलाओ अभियान।

हजारीबाग के माननीय विधायक श्री. मनीष जायसवाल, हजारीबाग डी. सी. डॉ. भुबनेश प्रसाद सिंह और डी. डी. सी. श्रीमती. विजया जाधव ने संयुक्त रूप से शिविर का उद्घाटन किया। माननीय हजारीबाग विधायक श्री. मनीष जायसवाल के द्वारा वित् प्रदत डिजिटल वीडियो कॉलपोस्कॉप और क्रायो मशीन के सेट को उन्हों ने हजारीबाग की महिलाओं के इलाज के लिए सुपुर्द किया।

इस कार्यक्रम में पुरे झारखण्ड में वीमेन डॉक्टर्स विंग आई.एम.ए. झारखण्ड के द्वारा लगातार लगाये जा रहे मेगा महिला स्वास्थ्य शिविरों के लिए डॉ. भारती कश्यप, चेयरपर्सन, वीमेन डॉक्टर्स विंग आई.एम.ए. झारखण्ड को  हजारीबाग के विधायक श्री. मनीष जायसवाल ने सम्मानित किया।

तीन आयामी  इस महिला स्वास्थ्य शिविर में वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. . झारखण्ड की स्त्री रोग विशेषज्ञों की टीम द्वारा शिविर में आने वाले सभी महिला मरीजों का इलाज किया गया एवं इसके साथ ही हजारीबाग, गिरिडीह, कोडरमा एवं चतरा की सभी सरकारी स्त्री रोग विशेषज्ञों को नई लगी सर्वाइकल प्री-कैंसर की जाँच एवं इलाज की डिजिटल वीडियो कॉलपोस्कॉप से जाँच एवं क्रायो से उपचार का प्रशिक्षण भी प्रदान कराया गया।

डायबिटिज जनित दृष्टिहीनता के लिए ज्योत से ज्योत जलाओ रिसर्च अभियान के तहत कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल, राँची के AIIMS नई दिल्ली प्रशिक्षित एवं इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ़ ओफ्थल्मोलॉजी से रेटिना की सम्मानित फेलोशिप लिए डॉ. बिभूति कश्यप ने इसे डॉ. बिभूति कश्यप एवं उनकी टीम के द्वारा डायबिटिज से आँखों की रौशनी खो रहे मरीजों के आँखों के पर्दे यानि रेटिना की जाँच की गयी। जिन मरीजों को आँखों के पर्दे की लेजर की आवश्यकता पाई गयी उन्हें राँची स्थित कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में आंखों के पर्दे के लेज़र की सुविधा आयुष्मान भारत योजना के तहत निःशुल्क प्रदान की जायेगी। ग्लूकोमा एवं मोतियाबिंद से आँखों की रौशनी खो रहे सभी मरीजों का ऑपरेशन राँची स्थित कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में आयुष्मान भारत योजना के तहत निःशुल्क किया जायेगा।

 

कैंप का रिपोर्ट

मेगा महिला स्वास्थ्य शिविर का रिपोर्ट

कैंप में कुल 110 मरीजों की जाँच की गई। इन में से 60% मरीजों में ग्राभास्य ग्रीवा (सर्विक्स) में  सूजन  एवं इन्फेक्सन पाया गया जिन्हें Kit 2 एवं Kit 6 की गोलियां मुफ्त में बांटी गयी। 2 महिलाओं में पोलिप पाया गया तथा 5 महिलाओं में सर्वाइकल प्री-कैंसर पाया गया जिन्हें कैंप अस्थल पर ही कोल्पोस्कोप गाइडेड क्रायो ट्रीटमेंट दे कर उन्हें कैंसर से मुक्त किया गया। शिविर में आने वाली सभी महिलाओं को 1 महीने की आयरन फोलिक एसिड एवं एवं कैल्शियम की गोलियां मुफ्त बांटी गयी।

ज्योत से ज्योत जलाओ रिसर्च अभियान की  रिपोर्ट

कैंप में कुल 452 के मरीजों की आँखों जाँच की गई। जिस में से 151 डायबिटिज के मरीज पाए गए । जिसमें से 18% मरीजों में  रेटिना के बीमारी पाई गयी। जिनका इलाज आयुष्मान भारत योजना के तहत राँची स्थित कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में AIIMS नई दिल्ली प्रशिक्षित डॉ. बिभूति कश्यप के द्वारा निःशुल्क किया जायेगा।

शिविर में आये मोतियाबिंद, ग्लूकोमा और नाखुन के सभी मरीजों को क्रमवार तरीके से राँची स्थित कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में बुला कर उनकी अत्याधुनिक फेको पद्धति से निःशुल्क ऑपरेशन किया जायेगा  

इस शिविर को सफल बनाने में हजारीबाग के सिविल सर्जन डॉ.कृष्ण कुमार,डी.पी.एम.श्रीमती. प्रतिमा कुमारी,राँची वीमेन डॉक्टर्स विंग की डॉ. रश्मि प्रसाद, डॉ. तनुश्री चकर्वर्ति तथा डॉ. आर.एस. वंदना, डॉ. प्रीटी रानी, डॉ. शिवानी यादव, डॉ. चित्रागंदा, डॉ. शिखा खंडेलवाल, डॉ. जूही चावला, डॉ. रजनी, डॉ. साबित सिंह, डॉ. प्रीति शर्मा, डॉ. रत्ना रानी कुंज, डॉ. अनुभा शंकर, डॉ. स्नेहलता, डॉ. श्रद्धा, डॉ. अन्नुप्रिया का अहम् योगदान रहा।

डॉ. भारती कश्यप बताया की  हमारे देश में महिलाओं की जिस कैंसर से सबसे जादा मौत होती है वह है ब्रेस्ट कैंसर एवं सर्वाइकल कैंसर। सर्वाइकल कैंसर के कारण प्रति वर्ष हमारे देश में 67000 महिलाओं की मौत होती है। यह भी सर्वाइकल कैंसर के आरंभिक लक्षण हो सकते हैं जैसे सफेद डिस्चार्ज यानी की लिकोरिया, अनियमित मासिक स्राव, पेट के निचले भाग में दर्द  सर्वाइकल कैंसर के लक्षण हो सकते हैं।

वीमेन डॉक्टर्स विंग आई.एम.ए. झारखण्ड का उदेश्य है झारखण्ड राज्य को सर्वाइकल कैंसर मुक्त बनाना। इस दिशा में हम त्री-आयामी अभियान झारखण्ड में लगातार चला रहे हैं।इस में हम महिलाओं के सर्वाइकल प्री-कैंसर को पहचान कर कैंप साइड में ही कोल्पोस्कोप गाइडेड क्रायो ट्रीटमेंट से इसे पूरी तरह से खत्म करते हैं जिस से उस महिअला एवं उसके परिवार को एक नया जीवन मिलता है।

इस के अलावा इन शिविरों में कोलकाता, दिल्ली एवं अमेरिका के वरीय स्त्री कैंसर रोग विशेषज्ञों की टीम को लाकर झारखण्ड के सभी सरकारी स्त्री रोग विशेषज्ञों को प्रशिक्षण भी प्रदान करा रहे हैं।

इस के अलावा सरकार को भी हमने सरकारी अस्पतालों में सर्वाइकल प्री-कैंसर के उपचार एवं पहचान के उपकरणों को लगाने के लिए प्रेरित किया है। जिसके फलस्वरूपअभी तक पुरे राज्य में 12 सरकारी अस्पतालों में गर्भाशय ग्रीवाके कैंसर के पहचान एवं उपचार की सुविधा उपलब्ध हो सकी है।

 डॉ. बिभूति कश्यप ने बताया की डायबिटिज से रौशनी खो रहे मरीजों के लिए ज्योत से ज्योत जलाओ राष्ट्रिय अभियान के तहत झारखण्ड का पाँचवा शिविर, हजारीबाग में आज लगाया जा रहा है। छठा शिविर हम खूंटी में लगाने जा रहे हैं। देश की सभी नेत्र सोसाइटी के साथ मिल कर डायबिटिक रेटिनोपैथी पर एक पैन इंडिया रिसर्च की शुरुआत की है। इसके अंतर्गत सभी राज्यों के नेत्र सोसाइटी को एक हजार डायबिटिक से ग्रसित मरीजों के आँखों के पर्दे की पिक्चर एवं पूरा डाटा आल इंडिया ओफ्थल्मोलॉजिकल सोसाइटी को भेजना है। जिस में 1/3 शहर के मरीज होंगें एवं 2/3 गांव एवं पहारी इलाके के मरीज होंगें। इस के अन्तर्गत डायबिटीज के मरीजों पर रिसर्च पूरी होने पर डायबिटीज के मरीजों को इससे काफ़ी फ़ायदा होगा, इस पर आधारित मैनेजमेन्ट प्रोटोकॉल से हमारे देश के डायबिटीज से पीडीत लोगों को काफी  फायदा होगा क्योंकि हमारे देश के लोगों पर ही ये रिसर्च बनी है। ज्यादातर प्रोटोकॉल विदेश के लोगो के ऊपर हुई रिसर्च पर बनते है जो हमारे देश में हमारे मरीजों के इलाज के लिए अनुसरण किया जाता है।

 

वीमेन डॉक्टर्स विंग आई.एम.. झारखण्ड के प्रयासों के फलस्वरूप विभिन्न सदर अस्पतालों में सर्वाइकल कैंसर के जाँच एवं उपचार के लिए लगे कॉल्पोस्कोप एवं क्रायो मशीन के सेट का विवरण :-

SL. No. Date Area Machine Donated by
1.         Due on 04/08/2019 Khunti Colposcope & Cryo Machine Set Shri. Nilkanth Singh Munda, MLA, Khunti
2.         Due on 01/08/2019 Hazaribagh Colposcope & Cryo Machine Set Mr. Manish Jaiswal, MLA, Hazaribgh
3.         27/02/2019 Giridih Colposcope & Cryo Machine Set Shri. Kedar Hazra, MLA, Jamua
4.         04/11/2018 Ranchi Colposcope & Cryo Machine Set Dr. Bharti Kashyap, Chairperson, Women Doctors Wing IMA Jharkhand 
5.         03/11/2018 Koderma Colposcope & Cryo Machine Set Shri. Ravindra Ray, MP, Koderma
6.         20/06/2018 Sahibganj Colposcope & Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu
7.         20/06/2018 Deoghar Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu
8.         20/06/2018 Godda Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu
9.         20/06/2018 Dumka Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu
10.     20/06/2018 Jamtara Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu
11.     20/06/2018 Pakur Cryo Machine Set Hon’ble Governor of Jharkhand Smt. Droupadi Murmu